ज़रा हटके

क्या WhatsApp डिलीट करना आखिरी रास्ता? डीटेल में समझिए नई प्राइवेसी पॉलिसी

इंस्टैंट मैसेजिंग एप्स व्हाट्सएप नए डेटा प्राइवेसी नियम ला रहा है। इसके बाद से सीखने में व्हाट्सएप को एपिसोड आलोचनाओं का सामना करना पड़ रहा है। नए अपडेट के मुताबिक, व्हाट्सएप यूजर डेटा को फेसबुक की अन्य कंपनियों के साथ शेयर करेगा। अपडेट में कहा गया कि व्हाट्सएप की सेवा जारी रखने के लिए यूजर्स को 8 फरवरी, 2021 तक नई डेटा शेयरिंग नीति को मानना ​​ही होगा या वे ऐप को अनइंस्टॉल कर सकते हैं। तो आइए जानते हैं कि व्हाट्सएप की नई नीति क्या है और आपके पास क्या विकल्प मौजूद हैं।

नए व्हाट्सएप अपडेट में क्या है?
नए अपडेट में लिखा गया है, ‘व्हाट्सएप अपनी शर्तों और गोपनीयता नीति को अपडेट कर रहा है। मुख्य अपडेट में व्हाट्सएप की सेवा, डेटा को पूरी करने, फेसबुक की अन्य सेवा के व्हाट्सएप चैट को स्टोर व इंटरनेट करने और व्हाट्सएप फेसबुक के साथ मिलकर किस प्रकार फेसबुक कंपनी के प्रोडक्ट्स के बीच इंटीग्रेशन करेगा, इस बारे में ज्यादा जानकारी दी गई है। ‘ इसमें आगे लिखा है, ‘AGREE पर टैप करके आप 8 फरवरी 2021 से लागू होने वाली नई शर्तों और गोपनीयता नीति को स्वीकार कर रहे हैं।’ यदि आप अपना खाता उपयोगकर्ता करना चाहते हैं या अधिक जानकारी चाहते हैं तो सहायता केंद्र पर जा सकते हैं। ‘

यह भी पढ़ें: जमकर डाउनलोड हो रहा है सिग्नल मैसेंजर एप्स, व्हाट्सएप से क्या बेहतर है?

इस नई नीति का क्या मतलब है?
नई नीति का मतलब है कि व्हाट्सएप के पास आपका जितना भी डेटा है, वह अब फेसबुक की दूसरी कंपनियों के साथ भी साझा किया जाएगा। इस डेटा में लोकेशन की जानकारी, आईपी एड्रेस, टाइम ज़ोन, फोन मॉडल, ऑपरेटिंग सिस्टम, बैटरी लेवल, सिग्नल स्ट्रेन्थ, हैंडज़र, मोबाइल नेटवर्क, आईएसपी, भाषा, टाइम ज़ोन और आईएमईआई नंबर शामिल हैं। इतना ही नहीं, आप किस तरह मैसेज या कॉल करते हैं, किन ग्रुप्स में जुड़े हैं, आपका स्टेट्स, प्रोफाइल फोटो, और लास्ट सीन तक शेयर किया जाएगा।

कंपनी का कहना है कि इस डेटा का उपयोग विश्लेषण संबंधी उद्देश्य के लिए किया जाएगा। इसका मतलब है कि फेसबुक के पास पहले से ज्यादा डेटा का सामान होगा और फेसबुक की अन्य कंपनियों इसका इस्तेमाल आप तक अपने प्रोडक्ट की पहुंच के अनुसार करेंगी। ऐसे दौर में जब डेटा एक उपयोगी चीज बन गया है, यह शेयर करके फेसबुक और उसकी कंपनियों को बड़ा लाभ कमाना चाहता है।

यह भी पढ़ें: डेटा नीति में बदलाव पर किरकिरी होने के बाद व्हाट्सएप ने दी मंजूरी

व्हाट्सट्सएप यूजरट करने से बनेगी बात?
अगर आप अपना डेटा शेयर नहीं करना चाहते हैं तो फोन से ऐप अनइंस्टॉल करने का विकल्प चुन सकते हैं। हालांकि, इसका यह मतलब बिलकुल नहीं है कि आपका जितना भी डेटा स्टोर किया गया है वह तुरंत हत्थ हो जाएगा। व्हाट्सएप पर यह लंबे समय तक स्टोर में रह सकता है। व्हाट्सएप के मुताबिक, ‘जब भी खाता रद्द करें तो ध्यान रखें कि आपके द्वारा बनाए गए ग्रुप्स की जानकारी या अन्य लोगों के साथ की गई आपकी चैट जैसी जानकारी को प्रभावित नहीं करता है।’

अंतिम रास्ता क्या है
बता दें कि व्हाट्सएप की नई निजता नीति 8000 शब्दों से बहुत ज्यादा लंबी है और इसमें इस प्रकार के कानूनी शब्दों का इस्तेमाल किया गया है कि एक आम आदमी को आसानी से समझ में ना आया। ऐसे में अगर आप व्हाट्सएप के नए नियमों को स्वीकार नहीं करना चाहते तो बेहतर होगा कि आप सिग्नल मैसेंजर की तरह किसी अन्य ऐप का इस्तेमाल करें।




Source link

क्या WhatsApp डिलीट करना आखिरी रास्ता? डीटेल में समझिए नई प्राइवेसी पॉलिसी via @varanasicoveragenews.com

Show More

varanasicoverage4742

“खबर वह होती है जिसे कोई दबाना चाहता है। बाकी सब विज्ञापन है। मकसद तय करना दम की बात है। मायने यह रखता है कि हम क्या छापते हैं और क्या नहीं छापते”।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button
6 Shares 43 views
43 views 6 Shares
Share via
Copy link
Powered by Social Snap