BusinessFoodsGamesTravelएंटरटेनमेंटदुनियापॉलिटिक्सवाराणसी तक

हरियाणा से नौकरी की ख़ातिर जर्मनी के लिए निकले दो भाई कैसे पहुंच गए रूस की जेल – BBC News हिंदी

सनी और मुकेश

छवि स्रोत, कमल सैनी/बीबीसी

छवि छवि,

सनी और मुकेश (दाएं) ममरे-फुफेरे भाई हैं

हरियाणा के करनाल जिले में अपने घर से जब मुकेश कुमार विदेश जाने के लिए निकले तो उन्हें भरोसा था कि वे अपने परिवार की आर्थिक मदद कर पाएंगे।

बिग एडमिनिस्ट्रेशन (बीबीई) के बैटल ने अपनी पढ़ाई पूरी कर ली और परिवार जान-पहचान के एक एजेंट ने उन्हें मजबूत मजदूर बना दिया और कहा कि वे उन्हें वहां लाखों रुपये प्रति माह की नौकरी दिलवा देंगे।

लेकिन मुकेश कुमार कभी जर्मनी तक नहीं पहुंच पाए. 35 लाख रुपए खर्च करने के बाद भी वे एक दिन रूस की जेल में पहुंच गए। परिवार को ज़मीन और गोदाम तक वापस सुरक्षित वापस लाने के लिए।

मुकेश कुमार के साथ उनके फुफेरे भाई सनी भी इस धोखे का शिकार हुए हैं।


Source link

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button