BusinessFoodsGamesTravelएंटरटेनमेंटदुनियापॉलिटिक्सवाराणसी तक

संपूर्णानंद संस्कृत विश्वविद्यालय: जानकारी देने में लापरवाही… 564 कॉलेजों में 250 ने नहीं भेजी रिपोर्ट

संपूर्णानंद संस्कृत विश्वविद्यालय के 564 में से 250 कॉलेजों ने रिपोर्ट नहीं भेजी

संपूर्णानंद संस्कृत विश्वविद्यालय
– फोटो : अमर उजाला

विस्तार


वाराणसी के आनंद संस्कृत विश्वविद्यालय से संबद्ध कॉलेज जानकारी की जानकारी से कतरा रहे हैं। 564 पेंटिंग में अभी तक 250 पेंटिंग की रिपोर्ट नहीं दी गई है। इसे लेकर यूनिवर्सिटी की ओर से वैज्ञानिकों को चेतावनी दी गई है। किस विषय की पढ़ाई हो रही है, कितने शिक्षक और छात्र हैं, किस विषय की योग्यता और संसाधनों के बारे में आदि के बारे में छात्रों से जानकारी दी गई थी।

संस्कृत विश्वविद्यालय से देश के 564 संबद्ध कॉलेज हैं। उच्चत्तर शिक्षा विभाग की ओर से शिक्षकों और संबद्ध समूहों से जुड़े डेटा को एक साथ लाने का उद्देश्य डीसीएफ (डेटा इंस्टीट्यूट ऑफ फॉर्मेट), टीआईआई (टीचर इनफॉर्मेशन फॉर्मेट) से डेटा मांगा गया है। इसका समय 14 अप्रैल तक दिया गया था।

जब इस बारे में यूनिवर्सिटी से जानकारी मिली तो पता चला कि डेट के बाद भी 250 से ज्यादा स्कूल की ओर से जानकारी नहीं दी गई है।

फ़्रैंचाइज़ी की संस्थाएँ, छात्र संख्या की अतिशयताएँ हैं

संस्कृत विश्वविद्यालय से जुड़े इंजीनियरों की नियुक्ति प्रक्रिया में गड़बड़ी की शिकायत भी सामने आई है। पिछले दिनों एक शिक्षक की ओर से याचिका दायर की गई थी तो यूनिवर्सिटी ने कैमरों की रिकॉर्डिंग में पूरी तरह से चोरी करने की बात कही थी। इसके अलावा कुछ विषयों में छात्र संख्या के खाते से लेकर स्नातक की कमी के आदि मामले आते हैं।

बोले अधिकारी

शुरुआत में केवल 150 बैकपैक ने ही जानकारी दी थी। 14 अप्रैल को तारीख़ के बाद के दशक में कलाकारों से संपर्क किया गया तो करीब 300 परमाणु बमों की रिपोर्ट दी गई। अभी भी 250 से अधिक कार्टून ने जानकारी नहीं दी है। समय से जानकारी न दें लोगों के विरुद्ध कार्रवाई की जाएगी। – राकेश कुमार, कुल सचिव


Source link

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button