AD
AD
AD
वाराणसी तक

थाने में पुलिस अधिकारियों के सामने फरियादी ने अपनी गर्दन पर रख लिया चाकू, मचा हड़कम्प

AD

यूपी के वाराणसी जिले के रोहनिया थाने में जनसुनवाई में एक फिरयादी अपनी गर्दन पर चाकू रखकर आत्महत्या देने की धमकी देने लगाँ पुलिस अधिकारियों की मौजूदगी में खुदकुशी की कोशिश से हड़कम्प मच गया।

वाराणसी. उत्तर प्रदेश के वाराणसी जिले के एक थाने में उस वक्त हड़कम्प मच गया, जब पुलिस अधिकारियों की मौजूदगी में ही एक फरियादी ने अपने गले पर चाकू रख लिया और खुद को मार डालने की बात करने लगा। उस वक्त थाने पर जनसुनवायी चल रही थी। अचानक घटी इस घटना से सभी हतप्रभ रह गए। तत्काल युवक के हाथ से चाकू छीनकर पुलिस ने उसे हिरासत में ले लिया गया।

 

दअसल वाराणसी के रोहनिया थाने में पुलिस की जनसुनवायी चल रही थी, जिसमें खुद सीओ और एसडीएम भी मौजूद थे। वहां लोगों की समस्याएं सुनी जा रही थीं कि इसी दौरान फरियादियों के बीच से उठकर एक युवक अपनी गर्दन पर चाकू रखकर आत्महत्या करने की धमकी देने लगा। उसका कहना था कि उसकी जमीन पर जबरन कब्जा कर लिया गया है और उसे न्याय नहीं मिल रहा है। हालांकि उसे ऐसा करते देखते ही कर्मचारियों ने तत्काल उसे पकड़कर उसके हाथ से चाकू छीन लिय और उसे हिरासत में ले लिया गया।

जानकारी के मुताबिक युवक रोहनिया थानाक्षेत्र के कनेरी गंगापुर गांव का रामानंद उपाध्याय है और वह मूल रूप से वाराणसी के राजातालाब क्षेत्र का रहने वाला है। शुक्रवार को रोहनिया थाने में जनसुनवाई के दौरान सीओ सदर मौजूद थे, इसी दौरान रामानंद ने ऐसा कदम उठाया। थोड़ी देर के लिये तो अफरा-तफरी का माहौल हो गया। लोगों के मुताबिक वह कह रहा था कि पयागपुर में उसकी आठ बिस्वा जीमन पर पड़ोस के लोग जबरदस्ती कब्जा कर चुके हैं। जमीन उसने किसी को बेच दी है, लेकिन कब्जा न दिला पाने के चलते उसे पैसे नहीं मिल रहे। उधर जनसुनवायी के बाद सीओ सदर ने मीडिया को बताया कि जन सुनवाई के दौरान सामने आए विवादों में सभी पक्षों को शांति व्‍यवस्‍था के लिए पाबंद किया जा रहा है। विवाद की जगह पर पुलिस और राजस्व की टीमें भेजी जा रही हैं। ये टीमें विवादों का निपटारा कराकर अपनी रिपोर्ट देंगी।

Advertisement



READ  पिछले चार महीनों में आंध्र प्रदेश के 10 जिलों में हुई सबसे अधिक बारिश
AD
Show More
AD

varanasicoverage4742

“खबर वह होती है जिसे कोई दबाना चाहता है। बाकी सब विज्ञापन है। मकसद तय करना दम की बात है। मायने यह रखता है कि हम क्या छापते हैं और क्या नहीं छापते”।

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *

Related Articles

AD
Back to top button
hi_INहिन्दी
Powered by TranslatePress »