ताजा खबरेंताज़ातरीनताज़ातरीन समाचारब्रेकिंग न्यूज़,

PM मोदी बोले- कोरोना के काल में भी कुपोषण के खिलाफ अहम जंग लड़ रहा भारत

PM मोदी बोले- कोरोना के काल में भी कुपोषण के खिलाफ अहम जंग लड़ रहा भारत


पीएम मोदी बोले- कोरोना के काल में भी कुपोषण के खिलाफ अहम जंग लड़ रहे हैं भारत

संयुक्त राष्ट्र की एजेंसी खाद्य एवं कृषि संगठन को इस साल नोबेल पुरस्कार भी मिला है

नई दिल्ली:

प्रधान मंत्री नरेंद्र मोदी (प्रधान मंत्री नरेंद्र मोदी) ने शुक्रवार को संयुक्त राष्ट्र खाद्य और कृषि संगठन (FAO) की 75 वीं वर्षगांठ पर आयोजित एक डिजिटल कार्यक्रम को संबोधित किया। पीएम मोदी ने कहा कि भारत रिकॉर्ड खाद्यान्न उत्पादन के कारण कोरोना के इस मुश्किल दौर में भी कुपोषण के खिलाफ आगे आकर जंग लड़ रहा है।

यह भी पढ़ें

यह भी पढ़ें- पश्चिम बंगाल में विधानसभा चुनाव से पहले चुनावी अखाड़ा बना दुर्गा पूजा महोत्सव, पीएम पंडाल का उद्घाटन करेंगे

प्रधानमंत्री ने #SahiPoshanDeshRoshan के साथ महत्वपूर्ण बातें साझा कीं। एफएओ के 75 साल होने पर एक मेमोरी सिक्का भी जारी किया गया। मोदी ने कहा कि देश में अब ऐसी फसलों को पैदा किया जा रहा है, जिसे ज्यादा मात्रा में पौष्टिक तत्व मिलें.प्रधानमंत्री ने कहा कि कोरोना के कारण जहां पूरी दुनिया संघर्ष कर रही है, वहीं भारत के किसानों ने इस बार पिछले साल के उत्पादन को बढ़ाया है। को रिकॉर्ड को भी तोड़ दिया गया।

खाद्यान्न के सारे रिकॉर्ड तोड़ दिए गए
सरकार ने गेहूं, धान और दालें सभी प्रकार के खाद्यान्न की खरीद के अपने पुराने रिकॉर्ड तोड़ दिए हैं। जबकि बीते कुछ महीनों में पूरी दुनिया में कोरोना संकट के दौरान भुखमरी-कुपोषण को लेकर कई तरह की चर्चाएँ हो रही हैं। बड़े-बड़े गुर अपनी चिंताएं जता रहे हैं कि क्या होगा, कैसे होगा?

80 करोड़ गरीबों को मुफ्त राशन दे रहा है देश
पीएम ने कहा कि भारत पिछले 7-8 महीनों से लगभग 80 करोड़ गरीबों को मुफ्त राशन उपलब्ध करा रहा है। आज भारत में निरंतर ऐसे सुधार किए जा रहे हैं जो वैश्विक खाद्य सुरक्षा (वैश्विक खाद्य सुरक्षा) के प्रति भारत की प्रविष्टि को दिखाते हैं। खेती और किसान को सशक्त करने से लेकर भारत के पीडीएस सिस्टम (सार्वजनिक वितरण प्रणाली) में एक के बाद एक सुधार किए जा रहे हैं। इस दौरान भारत ने करीब-करीब डेढ़ लाख करोड़ रुपए का खाद्यान्न गरीबों को मुफ्त बांटा है।





Source link

955 posts

About author
“खबर वह होती है जिसे कोई दबाना चाहता है। बाकी सब विज्ञापन है। मकसद तय करना दम की बात है। मायने यह रखता है कि हम क्या छापते हैं और क्या नहीं छापते”।
Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *