अन्य खबर
Trending

पति को छोड़ विवाहित दोस्त से मिलने गई थी महिला, फिर तीनों ने बना लिया रिश्ता

a-woman-divorced-her-arranged-marriage-husband-and-forms-throuple-with-married-punjabi-friends

POSTED BY=RISHU PATHAK.

अमेरिका के एक पंजाबी कपल के घर रहने आई उनकी दोस्त हमेशा के लिए इस घर की होकर रह गई. दरअसल ये महिला अपने तलाक के बाद अपने दोस्त के यहां इमोशनल सपोर्ट के लिए कुछ दिन रुकने आई थी लेकिन तीनों के बीच बॉन्डिंग ऐसी बनी कि तीनों अब पिछले कई सालों से रिश्ते में हैं. (फोटो साभार: polylove_triad)

सनी, कौर और स्पीति
अमेरिका के इंडियानापोलीस में रहने वाले सनी और स्पीति ने साल 2003 में शादी रचाई थी. सनी का जन्म पंजाब में हुआ है और वे आठ साल की उम्र में न्यूयॉर्क आ गए थे. इसके कुछ सालों बाद जब वे भारत आए थे तो उनकी मुलाकात स्पीति से हुई थी और दोनों ने कुछ समय बाद शादी रचा ली थी. (फोटो साभार: polylove_triad)


प्रतीकात्मक तस्वीर

स्पीति अपनी दोस्त पिद्दू कौर की अरेंज मैरिज में शामिल होने गई थीं. हालांकि कौर का रिश्ता कुछ महीने ही टिक पाया. दरअसल कौर के पति ने शादी ही इसलिए की थी क्योंकि उसके पेरेंट्स ने उसे कहा था कि उसे शादी के बाद ब्रैंड न्यू कार मिलेगी. हालांकि अपने पति के घर कैलिफॉर्निया से निकल कर कौर, सनी और स्पीति के पास रहने के लिए न्यूयॉर्क चली आईं. 

सनी, कौर और स्पीतिइस रिश्ते में आने के बाद स्पीति को कई सालों तक ये भी लगता रहा है कि उनके पति कहीं उनकी दोस्त के साथ मिलकर उन्हें छोड़ ना दें. उनकी इस इनसिक्योरिटी के चलते तीनों लोगों ने कुछ नियम बनाए हुए हैं. इन नियमों के अनुसार, तीनों के बीच कोई सीक्रेट नहीं रहेंगे और डेट नाइट्स के लिए अलग से दो लोग नहीं जाएंगे. स्पीति ने कहा कि जब कौर हमारी लाइफ में आई, उस समय वो तलाक के दौर से गुजर रही थी. हम एक दूसरे को सुनते थे, एक दूसरे के साथ इमोशनल होते थे और एक दूसरे के साथ डांस भी करते थे. ये आकर्षण सिर्फ इमोशनल नहीं था और सनी भी इस फैसले से खुश था. (फोटो साभार: polylove_triad)


सनी, कौर और स्पीति

इस रिलेशनशिप से पहले सनी और स्पीति की दो बेटियां थीं जिनकी उम्र 16 और 15 साल थी वही अब स्पीति अपनी तीसरी बेटी को जन्म दे चुकी हैं जो 9 साल की हो चुकी है. इसके अलावा कौर ने भी एक बेटे को जन्म दिया है जो 4 साल का है. चूंकि इन तीनों का परिवार पारंपरिक भारतीय बैकग्राउंड से है, यही वजह है कि इन लोगों को अपने परिवार के कुछ सदस्यों से रिश्ता तोड़ना पड़ा है क्योंकि ये लोग इन तीनों लोगों के रिश्ते को समझ नहीं पा रहे थे.


Show More

varanasicoverage4742

“खबर वह होती है जिसे कोई दबाना चाहता है। बाकी सब विज्ञापन है। मकसद तय करना दम की बात है। मायने यह रखता है कि हम क्या छापते हैं और क्या नहीं छापते”।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button