AD
AD
AD
ताज़ातरीन

हाथरस की घटना पाकिस्तान में हिंदू लड़कियों के उत्पीड़न से अलग नहीं : संजय राउत

AD

हाथरस की घटना पाकिस्तान में हिंदू लड़कियों के उत्पीड़न से अलग नहीं: संजय राउत

शिवसेना सांसद संजय राउत (फाइल फोटो)।

मुंबई:

शिवसेना सांसद संजय राउत ने रविवार को हाथरस की 19 वर्षीय दलित लड़की के साथ कथित सामूहिक दुष्कर्म और उसकी मौत की तुलना पाकिस्तान में की हिंदू लड़कियों के साथ उत्पीड़न ’से की है। राउत ने पार्टी के मुखपत्र सामना में एक लेख में अभिनेत्री कंगना रनौत पर उनके “मुंबई-पाकिस्तान के कब्जे वाले कश्मीर (एचकेके)” टिप्पणी को लेकर भी कटाक्ष किया।

यह भी पढ़ें

उन्होंने सवाल किया कि अभी तक किसी ने हाथरस को पाकिस्तान क्यों नहीं कहा है। राउत ने कहा, ” हाथरस पीड़िता कोई सेलिब्रिटी नहीं थी और वह ड्रग्स भी नहीं लेती थी। उसने करोड़ों रुपये खर्च करके कोई अवैध निर्माण नहीं किया था। वह एक साधारण लड़की थी जिसके शव को रात में अवैध रूप से जला दिया गया था। यह सब योगी (उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के) रामराज्य में हुआ। ”

यह भी पढ़ें: ट्रे’ड यूनियनों की टीम ने हाथरस में पीड़ित परिवार से की मुलाकात की

Advertisement

उन्होंने अपने साप्ताहिक कॉलम में लिखा, ” हम सुनते हैं कि ऐसी घटनाएं पाकिस्तान में होती हैं, जहां हिंदू लड़कियों का अपहरण किया जाता है और बलात्कार करने के बाद उनकी हत्या कर दी जाती है। हाथरस में जो हुआ, वह कुछ अलग नहीं था। अब तक किसी ने हाथरस को पाकिस्तान नहीं कहा है। राउत ने कहा कि बलात्कार पीड़िता की पहचान कभी भी उजागर नहीं होनी चाहिए, लेकिन एक अस्पताल में हाथरस पीड़िता की तस्वीर छापी गयी।

उन्होंने कहा, ” जिन लोगों ने कंगना रनौत की मुंबई और महाराष्ट्र के खिलाफ बेबुनियादपन का समर्थन किया और उनके लिए न्याय की मांग की जब उनके अवैध निर्माण को पिछले महीने (मुंबई के नगर निकाय द्वारा) गिराया गया था, वे चुप रहे और जब हाथरस पीड़िता के लिए न्याय की मांग का समय आया तो गायब हो गए हैं। ”

हंगामे के दौरान प्रियंका के साथ हुई थी बदसलूकी, पुलिस ने माफी मांगी

(इस खबर को एनडीटीवी टीम ने साझा नहीं किया है। यह सिंडीकेट ट्वीट से सीधे प्रकाशित की गई है।)



AD
Show More
AD

varanasicoverage4742

“खबर वह होती है जिसे कोई दबाना चाहता है। बाकी सब विज्ञापन है। मकसद तय करना दम की बात है। मायने यह रखता है कि हम क्या छापते हैं और क्या नहीं छापते”।

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *

Related Articles

AD
Back to top button
hi_INहिन्दी
Powered by TranslatePress »