AD
AD
AD
NEWSताज़ातरीनहोम
Trending

जेईई-मेन में भावी इंजीनियरों को फिजिक्स ने छकाया, परीक्षार्थियोें को न्यूमेरिकल लगे कठिन|

सुबह से रूक-रूक कर बारिश होने के कारण तमाम परीक्षार्थी भींगते हुए केंद्रों पर परीक्षा देने पहुंचे। वहीं कुछ परीक्षार्थियोें ने बारिश थमने का इंतजार करते हैं।

AD

 

संयुक्त प्रवेश परीक्षा (जेईई-मेन) की मुख्य परीक्षाएं बुधवार को शुरू हो गई।
संयुक्त प्रवेश परीक्षा (जेईई-मेन) की मुख्य परीक्षाएं बुधवार को शुरू हो गई।

वाराणसी, जेएनएन। संयुक्त प्रवेश परीक्षा (जेईई-मेन) की मुख्य परीक्षाएं बुधवार को शुरू हो गई। वहीं पहले दिन भावी इंजीनियरों को फिजिक्स के सवालों ने छकाया। ज्यादातर परीक्षार्थियोें को फिजिक्स के न्यूमेरिकल कठिन लगे। वहीं मैथ को लेकर परीक्षार्थियोें की मिली जुली प्रतिक्रिया रही। कुछ को मैथ सामान्य तो कुछ को मैथ में आठ-दस सवाल कठिन लगे। परीक्षार्थियोें काे सबसे सरल केमिस्ट्री के सवाल लगे। माइनस मार्किंग होने के बावजूद ज्यादातर परीक्षार्थी केमिस्ट्री के सभी 25 प्रश्नों का उत्तर दिए हैं। जबकि फिजिक्स व मैथ के दस से 18 सावाल परीक्षार्थियोें ने छोड़ दिया।

इंजीनियनिंग में दाखिले के लिए नेशनल टेस्टिंग एजेंसी (एनटीए) की ओर से ऑनलाइन परीक्षाएं छह सितंबर तक होनी है। शारीरिक दूरी के मानकों को देखते हुए परीक्षाएं दो पालियों में कराई जा रही है। वह भी एक केंद्र पर अधिकतम 250 परीक्षार्थी आंवटित किए गए हैं। परीक्षा में चार-चार अंकों के 75 प्रश्न पूछे गए थे। सभी प्रश्न चार -चार अंकों के पूछे गए थे। चार अंकों के एक प्रश्न गलत होने पर एक नंबर काटा जाएगा। माइनस मार्किंग होने के कारण जिन प्रश्नों के उत्तर में संदेह था उसे परीक्षार्थियोें ने छोड़ दिया। बहरहाल परीक्षा को लेकर परीक्षार्थी व उनके अभिभावक भी खुश थे। कहा कि हमलोग एक साल से तैयारी कर रहे थे। यदि प्रवेश परीक्षा नहीं होती तो पूरा साल बर्बाद हो जाता। बहरहाल जनपद के 11 केंद्रों पर 1541 अभ्यर्थी पंजीकृत थे। प्रथम पाली में करीब 64 अभ्यर्थी परीक्षा में सम्मिलित हुए हैं।

भीगते हुए पहुंचे परीक्षार्थी

सुबह से रूक-रूक कर बारिश होने के कारण तमाम परीक्षार्थी भींगते हुए केंद्रों पर परीक्षा देने पहुंचे। वहीं कुछ परीक्षार्थियोें ने बारिश थमने का इंतजार करते हैं। इसके चलते उन्हें केंद्रों तक पहुंचने में थोड़ी देरी हुई। हालांकि ज्यादातर अभ्यर्थी सुबह आठ बजे तक परीक्षा देने पहुंच गए थे। परीक्षार्थियोें का थर्मन स्कैनिंग व हाथ सैनिटारइज कराने के बाद ही परीक्षा हाल में प्रवेश करने की अनुमति दी जा रही थी। प्राय: सभी केंद्रों पर व्यवस्थाएं अच्छी होने के कारण परीक्षार्थी संतुष्ट दिखे

Posted By: RISHU PATHAK


 

Advertisement
AD
Show More
AD

varanasicoverage4742

“खबर वह होती है जिसे कोई दबाना चाहता है। बाकी सब विज्ञापन है। मकसद तय करना दम की बात है। मायने यह रखता है कि हम क्या छापते हैं और क्या नहीं छापते”।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Related Articles

AD
Back to top button