पॉलिटिक्स समाचारवाराणसी तकहोम

मिशन 2022: पूर्वांचल पर ओवैसी की नजर, 12 को ओमप्रकाश राजभर संग 4 जिलों का करेंगे दौरा

हाइलाइट्स:

  • असदुद्दीन ओवैसी की नजर पूर्वांचल के वोट बैंक पर है, 12 को करेंगे 4 जिलों का दौरा
  • ओवैसी के साथ मौजूद रहेंगे सुभासपा के रा और अधिवक्ता ओमप्रकाश राजभर
  • वाराणसी, मऊ, आजमगढ़ और जौनपुर में पार्टी कार्यकर्ताओं से मुलाकात करेंगे

अभिषेक जायसवाल, वाराणसी
बिहार के बाद अब यूपी की सियासत में AIMIM के राष्ट्रीय अध्यक्ष और सांसद असदुद्दीन ओवैसी की एंट्री गई है। यूपी विधानसभा चुनाव से पहले चुनावी रणनीति पर चर्चा के लिए असदुद्दीन ओवैसी पहली बार 12 जनवरी को वाराणसी आ रहे हैं। वाराणसी में उनके आगमन पर स्वागत के लिए भागीदारी संकल्प मोर्चा ने जोरदार तैयारी की है।

जानकारी के मुताबिक, असदुद्दीन ओवैसी सुबह करीब साढ़े 8 बजे वाराणसी के लालबहादुर शास्त्री इंटरनैशनल टर्मिनल पर चलेगी। उसके बाद वह सड़क मार्ग से सुभासपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष और पूर्व मंत्री ओमप्रकाश राजभर के साथ पूर्वांचल के चार जिलों का दौरा करेंगे। वाराणसी के साथ ही जौनपुर, आजमगढ़ और मऊ जिले में वे कार्यकर्ताओं से संवाद करेंगे।

अखिलेश के वोट बैंक में लगेगी सेढ़!
यूपी की सियासत में भागीदारी संकल्प मोर्चा के जरिये ओवैसी की एंट्री से बीजेपी के साथ ही एसपी और बीएसपी के वोट बैंक में भी सेंध लगेगी। ओमप्रकाश राजभर, बाबू सिंह कुशवाहा, कृष्णा पटेल जैसे नेता बीजेपी के वोट काटेंगे तो दूसरी तरफ ओवैसी एसपी के वोट बैंक में सेंध लगा सकते हैं।

गुरैनी मदरसे में पढ़ेंगे नमाज

पूर्वांचल दौरे पर आ रहे असदुद्दीनओविसी जब वाराणसी टर्मिनल से सड़क मार्ग से जौनपुर के रास्ते आजमगढ़ जाएंगे, इस दौरान संभावना है कि वे गुरैनी मदरसे में नमाज भी पढ़ेंगे। हालांकि इसकी अभी आधिकारिक पुष्टि नहीं हुई है।

शिवपाल को शामिल करने का प्रयास
सुभासपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष और पूर्व मंत्री ओमप्रकाश राजभर ने पहले प्रगतिशील समाजवादी पार्टी के अधिवक्ता शिवपाल यादव को इस भागीदारी संकल्प मोर्चा में शामिल होने के लिए आमंत्रित किया है। वाराणसी में राष्ट्रपति काँफ्रेंस के दौरान ओमप्रकाश राजभर ने कहा था कि उनका द्वार सभी के लिए खुला है। यूपी में वह इस मोर्च को मजबूत बनाने के लिए वह दिलनाली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल से भी मुलाकात कर चुके हैं और शिवपाल यादव से भी लगातार उनकी बातचीत हो रही है।




Source link

Show More

varanasicoverage4742

“खबर वह होती है जिसे कोई दबाना चाहता है। बाकी सब विज्ञापन है। मकसद तय करना दम की बात है। मायने यह रखता है कि हम क्या छापते हैं और क्या नहीं छापते”।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button