होम

कंगना को द्रौपदी, प्रधानमंत्री को श्रीकृष्ण और कौरव दरबार के रूप में शिवसेना को दिखाया


पढ़ें अमर उजाला ई-पेपर
कहीं भी, कभी भी।

* सिर्फ subscription 365 के लिए वार्षिक सदस्यता और 20% की छूट पाने के लिए, कोड का उपयोग करें: 20OFF

ख़बर सुनता है

वाराणसी। मुंबई में कंगना रणौत के कार्यालय में हुई तोड़फोड़ से अधिवक्ता भी नाराज हैं। शुक्रवार को जिला मुख्यालय पर उन्होंने महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री कोटव ठाकरे का पुतला जलाया। वहीं, दीवानी कचहरी के अधिवक्ता श्रीपति मिश्रा ने अपने फेसबुक अकाउंट पर पोस्ट किया। इसमें द्रौपदी के चीरहरण का दृश्य है। इसमें द्रौपदी की जगह कंगना रणौत, कृष्ण की जगह प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और कौरव दरबार के रूप में शिवसेना नेताओं की तस्वीर लगाई गई है।
अधिवक्ता ने कहा कि कंगना रणौत के खिलाफ महाराष्ट्र सरकार द्वारा की गई मनमानी कार्रवाई से वह आक्रोशित हैं। जिस प्रकार असंवैधानिक तरीके से एक महिला के दफ्तर में तोड़फोड़ की गई है, वह दुबारा बन गई होगी। महिला के साथ अत्याचार बंद हो। अधिवक्ता ने मांग की है कि महाराष्ट्र सरकार को बर्खास्त कर केंद्र सरकार कानून का राज्य स्थापित करे। प्रदर्शन के दौरान उद्धव ठाकरे और राज्यसभा सांसद संजय राउत के खिलाफ जमकर नारेबाजी की गई। अधिवक्ता ने कहा कि जरूरत पड़ी तो वह मुंबई जाकर हाईकोर्ट में जनहित याचिका दाखिल करेंगे। पुतला जलाने के दौरान शैलेंद्र प्रताप सिंह सरदार, अवनीश त्रिपाठी, राजा आनंद ज्योति सिंह, विनीत सिंह, शाहिद जमाल अंसारी, सिद्धार्थ श्रीवास्तव, चंद्रभान सिंह, मनीष सिंह, त्रिपुरारी चैहान, आनंद पाल आदि अधिवक्ता मौजूद रहे।

वाराणसी। मुंबई में कंगना रणौत के कार्यालय में हुई तोड़फोड़ से अधिवक्ता भी नाराज हैं। शुक्रवार को जिला मुख्यालय पर उन्होंने महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री कोटव ठाकरे का पुतला जलाया। वहीं, दीवानी कचहरी के अधिवक्ता श्रीपति मिश्रा ने अपने फेसबुक अकाउंट पर पोस्ट किया। इसमें द्रौपदी के चीरहरण का दृश्य है। इसमें द्रौपदी की जगह कंगना रणौत, कृष्ण की जगह प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और कौरव दरबार के रूप में शिवसेना नेताओं की तस्वीर लगाई गई है।

अधिवक्ता ने कहा कि कंगना रणौत के खिलाफ महाराष्ट्र सरकार द्वारा की गई मनमानी कार्रवाई से वह आक्रोशित हैं। जिस प्रकार असंवैधानिक तरीके से एक महिला के दफ्तर में तोड़फोड़ की गई है, उसे दुबारा हो जाना चाहिए। महिला के साथ अत्याचार बंद हो। अधिवक्ता ने मांग की है कि महाराष्ट्र सरकार को बर्खास्त कर केंद्र सरकार कानून का राज्य स्थापित करे। प्रदर्शन के दौरान उद्धव ठाकरे और राज्यसभा सांसद संजय राउत के खिलाफ जमकर नारेबाजी की गई। अधिवक्ता ने कहा कि जरूरत पड़ी तो वह मुंबई जाकर हाईकोर्ट में जनहित याचिका दाखिल करेंगे। पुतला जलाने के दौरान शैलेंद्र प्रताप सिंह सरदार, अवनीश त्रिपाठी, राजा आनंद ज्योति सिंह, विनीत सिंह, शाहिद जमाल अंसारी, सिद्धार्थ श्रीवास्तव, चंद्रभान सिंह, मनीष सिंह, त्रिपुरारी चैहान, आनंद पाल आदि अधिवक्ता मौजूद रहे।

Show More

varanasicoverage4742

“खबर वह होती है जिसे कोई दबाना चाहता है। बाकी सब विज्ञापन है। मकसद तय करना दम की बात है। मायने यह रखता है कि हम क्या छापते हैं और क्या नहीं छापते”।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button