जग्गी वासुदेव से मिले हॉलिवुड स्टार विल स्मिथ, सदगुरु ने शेयर की तस्वीरें


ईशा फाउंडेशन के संस्थापक सदगुरु जग्गी वासुदेव और हॉलिवुड स्टार विल स्मिथ की हाल ही में खास मुलाकात हुई थी। सदगुरु ने खुद सोशल मीडिया पर मुलाकात की कई तस्वीरें शेयर की हैं। सदगुरु ने विल स्मिथ को धर्म पर चलने की सीख भी दी। विल स्मिथ के साथ अलग-अलग मुद्रा में नजर आए सदगुरु
सदगुरु ने अपने ट्विटर हैंडल पर विल स्मिथ के साथ कई तस्वीरें शेयर की हैं। इन तस्वीरों में वह विल स्मिथ के साथ कभी हंस रहे थे, कभी सुकून के पल बिता रहे थे और कभी किसी मुद्दे पर गहरी चर्चा कर रहे थे। इन तस्वीरों के साथ सदगुरु ने लिखा, ‘विल आपके और आपके अद्भुत परिवार के साथ कुछ समय बिताना खुशी की बात थी। आपका संघ मजबूत हो और धर्म आपका मार्गदर्शक हो।’

भारत की संस्कृति से प्रभावित हैं विल स्मिथ
विल स्मिथ भारत की संस्कृति से खासा प्रभावित हैं। उन्होंने पिछले साल हरिद्वार की प्रसिद्ध गंगा आरती में हिस्सा लिया था और तस्वीरें सोशल मीडिया पर शेयर की थीं। एक इंटरव्यू में विल स्मिथ ने कहा था कि वह बॉलिवुड फिल्मों में भी काम करना चाहते हैं।

विल स्मिथ की आने वाली फिल्म
वर्कफ्रंट की बात करें तो विल स्मिथ आखिरी बार इस साल जनवरी में रिलीज हुई फिल्म ‘बैड बॉयज फॉर लाइफ’ में नजर आए थे। विल स्मिथ अब किंग रिचर्ड में लीड रोल करते हुए दिखाई देंगे। यह फिल्म अमेरिकन टेनिस कोच और टेनिस स्टार विलियम्स सिस्टर के पिता रिचर्ड विलियम्स पर बेस्ड है।



Source link

हाथरस: दिल्ली शिफ्ट होना चाहता है पीड़िता का परिवार, भाई ने कहा- यहां रहकर हर रोज आती है बहन की याद


हाइलाइट्स:

  • हाथरस गैंगरेप-मर्डर केस की सीबीआई जांच के बीच पीड़िता का परिवार फिर गांव छोड़ने की बात कर रहा है
  • पीड़िता के परिवार का कहना है कि वे लोग दिल्ली शिफ्ट होना चाहते हैं, इसके लिए सरकार से मदद की दरकार है
  • परिवार इससे पहले भी गांव छोड़ने की बात कह चुका है, तब डर की वजह से परिवार घर छोड़ना चाहता था

हाथरस
हाथरस गैंगरेप-मर्डर केस की सीबीआई जांच के बीच पीड़िता का परिवार एक बार फिर से गांव छोड़ने की बात कर रहा है। पीड़िता के परिवार का कहना है कि वे लोग दिल्ली शिफ्ट होना चाहते हैं। इसके लिए उन्हें सरकार से मदद की दरकार है। बता दें कि परिवार इससे पहले भी गांव छोड़ने की बात कह चुका है। तब डर की वजह से परिवार घर छोड़ना चाहता था।

पीड़िता के भाई ने कहा, ‘हम गांव में नहीं रहना चाहते हैं। हमारे केस को दिल्ली ट्रांसफर कर दिया जाए। परिवार भी सुरक्षा और रोजगार के लिए दिल्ली ही शिफ्ट होना चाहता है। दिल्ली में केस ट्रांसफर होने से वहां रहकर बेहतर पैरवी हो सकती है। हम वहां जाकर किराये के मकान में रह लेंगे।’ पीड़ि‍ता के भाई का कहना है, ‘सीबीआई को घटना के बारे में सारी बातें हम बता चुके हैं। अभी मां और भाभी से सीबीआई की बात होनी बाकी है।’

हाथरस केस- सीबीआई टीम ने की पीड़िता के भाई से घंटों पूछताछ

पढ़ें: हाथरस: CBI को आरोपी लवकुश के घर से मिली ‘खून से सनी शर्ट’, परिवार ने धब्बों को बताया पेंट का दाग

‘सरकार मदद कर दे तो बहुत अच्छा’
पीड़िता के बड़े भाई ने कहा, ‘इतना सब कुछ होने के बाद हमारा यहां रहना असंभव है। सरकार अगर दिल्ली शिफ्ट होने में हमारी मदद करे तो यह हमारे लिए बहुत मायने रखेगा। हम फिर से नई शुरुआत करना चाहते हैं।’ भाई ने कहा, ‘पुलिस सुरक्षा इस वक्त तो मौजूद है लेकिन यह हमेशा नहीं रहेगी।’ पीड़िता के परिवार ने 12 अक्टूबर को हाई कोर्ट की लखनऊ बेंच के सामने केस को यूपी से दिल्ली शिफ्ट करने की मांग की थी।

‘एक हादसे ने सारी अच्छी यादें मिटा दीं’
पीड़िता के छोटे भाई ने कहा, ‘यह एक कठिन फैसला होगा। हमारी पहचान इस गांव से जुड़ी है। हम यहीं पैदा हुए और यहीं पले-बढ़े। पीढ़ियों से हम यहां रह रहे हैं। यह आसान नहीं है लेकिन हम आगे बढ़ेंगे। इस गांव से हमारी कई अच्छी यादें भी हैं लेकिन एक बुरे हादसे ने सब पीछे छोड़ दिया। यहां रहने से हमें हर रोज याद आएगा कि हमारी बहन के साथ क्या हुआ था।’

पढ़ें: पीड़िता के परिवार की सरकार से मांग- दिल्ली शिफ्ट किया जाए हाथरस केस

एसडीएम ने परिवार से की मुलाकात
गांव में ऊंची जाति के 60 परिवार और 4 दलित परिवार रहते हैं। लड़की के परिवार की आरोपियों के परिवार से धमकी मिलने की शिकायत पर अतिरिक्त पुलिस बल उनके घर के बाहर लगाई गई थी। परिवार ने प्रशासन की तरफ से मुहैया कराई गई सुरक्षा पर संतोष जाहिर किया। शुक्रवार को एसडीएम अंजली गंगवार ने पीड़ित परिवार से मिलकर उनका हाल जाना। एसडीएम ने खाद्यान्न मुहैया कराने का भरोसा भी दिया। इस दौरान मृतका के पिता ने खेत की फसल की कटाई की इजाजत मांगी है। इस बीच, यूपी सरकार की ओर से गठित SIT ने जांच पूरी कर ली है। जल्द ही वह रिपोर्ट यूपी शासन को सौंप देगी।

पहले डर की वजह से गांव छोड़ना चाहता था परिवार
इससे पहले परिवार ने गांव छोड़ने की बात कही थी। परिवार का कहना था कि आरोपी पक्ष के समर्थन में पंचायत के चलते वे डर हुए हैं। उनका कहना था क‍ि हम पर लगातार दबाव बनाया जा रहा है और धमकियां भी मिल रही हैं। पीड़ित के पिता ने कहा था, ‘पीड़िता के पिता ने कहा कि गांव में जिस तरह के हालात बनते जा रहे हैं उसे देखने के बाद हमें आगे चलकर मौत दिखाई दे रही है। हम कहीं भी चले जाएंगे। भीख मांगकर खाएंगे लेकिन गांव वापस नहीं आएंगे।’

पीड़िता के पिता और भाई से 6 घंटे तक हुई थी पूछताछ

हाथरस केस की सीबीआई जांच जारी है। बुधवार को सीबीआई ने पीड़िता के परिवार के सदस्यों से पूछताछ की थी जांच एजेंसी ने 6 घंटे तक पीड़िता के पिता और दोनों भाइयों से पूछताछ की थी। भारी सुरक्षा व्यवस्था के बीच उन्हें सीबीआई के अस्थायी कार्यालय से गांव ले जाया गया था।

हाई कोर्ट में 2 नवंबर को होगी सुनवाई
वहीं हाई कोर्ट की लखनऊ बेंच में भी केस की सुनवाई चल रही है। 12 अक्टूबर को पीड़िता के परिवार ने जबरन अंतिम संस्कार पर अपना बयान दिया था। उन्होंने कहा था कि बिटिया को देखने तक नहीं दिया गया था। कोर्ट ने सरकार और प्रशासन की कड़ी फटकार भी लगाई थी। अब कोर्ट में अगली सुनवाई 2 नवंबर को होगी।

टाइम्स ऑफ इंडिया के इनपुट के साथ

हाथरस मामले में सुनवाई पूरी, सुप्रीम कोर्ट ने आज क्या कहा?



Source link

IPL 2020: Watch Rashid Khan take on Sunrisers Hyderabad teammates in bottle flip challenge


IPL 2020: सनराइजर्स हैदराबाद के युवा सितारे, जिनमें राशिद खान और प्रियम गर्ग शामिल हैं, अपने 4-दिवसीय ब्रेक के दौरान प्रशिक्षण के बाद एक मजेदार बोतल फ्लिप चुनौती में शामिल थे।

राशिद खान ने अपने SRH टीम के साथी (BCCI के सौजन्य से) बोतल फ्लिप चुनौती ली

प्रकाश डाला गया

  • राशिद खान ने अपने SRH टीम के साथियों के साथ बोतल फ्लिप चुनौती ली
  • रशीद को बहुत किस्मत का पता नहीं चला क्योंकि वह जल्दी खत्म हो गया था
  • एसआरएच 4 दिन के ब्रेक पर है क्योंकि वे रविवार को केकेआर से भिड़ेंगे

इंडियन प्रीमियर लीग (आईपीएल) २०२० को विचित्र परिस्थितियों में खेला जा रहा है, उपन्यास कोरोनवायरस महामारी के मद्देनजर हर दूसरे खेल लीग की तरह। जैव-सुरक्षित बुलबुले और umpteen सुरक्षा प्रोटोकॉल हैं जो खिलाड़ियों और सहायक कर्मचारियों को UAE में पालन करने की आवश्यकता है।

शारीरिक गड़बड़ी आदर्श बन गई है और बीच में उनके समय के अलावा, क्रिकेट सितारे यूएई में अपने होटल के कमरों तक ही सीमित हैं। हालांकि, बाहरी दुनिया के साथ बातचीत की कमी ने खिलाड़ियों और सहयोगी कर्मचारियों को एक-दूसरे को पहले से बेहतर जानने के लिए भी दिया है।

आईपीएल 2020 – पूर्ण कवरेज | अंक तालिका

खिलाड़ी सौभाग्यशाली महसूस कर रहे हैं कि वे वही कर रहे हैं जो उन्हें पसंद है क्योंकि दुनिया वापस सामान्य स्थिति में रेंग रही है। जैसा कि यह पता चला है, आईपीएल 2020 में प्रशिक्षण सत्र पहले से कहीं अधिक मजेदार हैं।

शुक्रवार को सनराइजर्स हैदराबाद ने सोशल मीडिया पर अपने युवा सितारों की एक क्लिप को अपलोड करने के लिए बोतल फ्लिप चैलेंज लिया। जैसा कि वीडियो में देखा गया है, रशीद खान, अब्दुल समद और प्रागीम गर्ग की पसंद मज़ेदार खेल खेलने के लिए एक प्रशिक्षण सत्र से अपनी पानी की बोतलों का उपयोग कर रहे हैं।

राशिद खान जल्दी हार जाते हैं जबकि समद दूसरों को चुनौती जीतने के लिए उकसाते हैं।

सनराइजर्स हैदराबाद ट्रॉफी पर दो मैच हारने के बाद 4 दिनों के ब्रेक पर है। वे पूर्ववत थे चेन्नई सुपर किंग्स द्वारा मंगलवार को दुबई में।

राशिद खान को सीएसके के शेन वॉटसन और अंबाती रायडू की अनुभवी जोड़ी ने क्लीन बोल्ड कर दिया क्योंकि अफगानिस्तान के स्पिनर ने बिना विकेट लिए और अपने 4 ओवर के स्पेल में 30 रन दिए।

सनराइजर्स हैदराबाद 168 रनों के अपने बड़े संघर्ष के दौरान संघर्ष कर रहा था, जिसमें कप्तान डेविड वार्नर और जॉनी बेयरस्टो शामिल नहीं हो पाए। केन विलियमसन का एक अर्धशतक व्यर्थ चला गया क्योंकि SRH 20 रन से हार गया।

8 मैचों में 3 जीत के बाद 8-टीम आईपीएल 2020 अंक तालिका के 5 वें स्थान पर बैठे, SRH अबु धाबी में डबल-हैडर के पहले मैच में रविवार को कोलकाता नाइट राइडर्स से भिड़ेगा।





Source link

क्या शी जिनपिंग को हुआ कोरोना? बार-बार आ रही खांसी ने रोका चीनी राष्ट्रपति का भाषण


पेइचिंग
चीन के राष्ट्रपति शी जिनपिंग के स्वास्थ्य को लेकर अटकलों का बाजार गरम है। बुधवार को हॉन्ग कॉन्ग के नजदीक शेन्जेन में एक कार्यक्रम के दौरान चीनी राष्ट्रपति बार-बार खांसते दिखाई दिए। भाषण के अंतिम 10 मिनटे में उनकी खांसी इतनी बढ़ गई कि उन्हें अपना उद्बोधन तक कुछ देर के लिए रोकना पड़ा। हालांकि, वहां की सरकारी मीडिया ने जिनपिंग के स्वास्थ्य को लेकर कोई भी रिपोर्ट जारी नहीं की है।

खांसी के कारण रोकना पड़ा लाइव भाषण
सरकारी टीवी चैनल सीसीटीवी पर जिनपिंग के भाषण का लाइव टेलिकॉस्ट किया जा रहा था। जब उन्हें खांसी आने लगी तो टीवी चैनल बार-बार उनकी खांसी वाले विजुअल को काटना शुरू कर दिया। हालांकि, इस दौरान आडियो में उनके खांसने की आवाजें सुनाई दे रही थीं। एक ऐसा विजुअल भी दिखाई दिया जिसमें शी जिनपिंग अपने मुंह पर हाथ रखे हुए थे।

कोरोना संक्रमण की आधिकारिक पुष्टि नहीं
ऑडियो में राष्ट्रपति जिनपिंग अपने गले को साफ करने के लिए पानी से गलाला करते भी सुनाई दिए। इसके बाद से ही तेजी से अफवाह फैल रही है कि चीनी राष्ट्रपति शी जिनपिंग कोरोना वायरस से संक्रमित हो चुके हैं। हालांकि इसकी अभी तक आधिकारिक पुष्टि नहीं हो सकी है। हॉन्ग कॉन्ग की लोकतंत्र समर्थन एपल टीवी ने भी दावा किया है कि जिनपिंग खांसी के कारण अपना दौरा स्थगित कर वापस पेइचिंग चले गए हैं।

अमेरिका-भारत से तनाव, चीनी राष्‍ट्रपति शी जिनपिंग बोले- जंग के लिए तैयार रहे सेना

लोगों के बीच बिना मास्क के दिखे जिनपिंग
एपोक टाइम्स ने अपनी रिपोर्ट में सीधा सवाल किया है कि क्या चीनी राष्ट्रपति शी जिनपिंग कोरोना से संक्रमित हैं? वे दक्षिणी चीन की यात्रा के दौरान शेन्जेन पहुंचे थे। यहां उनको लोगों के बीच बिना मास्क पहने देखा गया था। हालांकि, इस दौरान वे लोगों से कुछ दूरी पर खड़े हुए दिखाई दिए थे।

कोरोना के कारण चीन की ‘अंतरराष्ट्रीय बेइज्जती’, सर्वे में लोग बोले- जिनपिंग पर भरोसा नहीं

क्या कुछ छिपा रहा है चीन?
चीन में आधिकारिक तौर पर हर दिन लगभग 10 से ज्यादा कोरोना वायरस के मामले दर्ज किए जा रहे हैं। हालांकि, कई विशेषज्ञों को चीन के इस आंकड़ों पर संदेह है। चीन ने पहली बार अपनी विकासदर को कम होने का अनुमान जताया है। ऐसे में संदेह जताया जा रहा है कि चीन वास्तविक आंकड़ों को छिपाकर गलत जानकारी साझा कर रहा है।



Source link

दिल्ली में रोड टैक्स के बाद अब इलेक्ट्रिक गाड़ियां खरीदने पर रजिस्ट्रेशन शुल्क में भी छूट


हाइलाइट्स:

  • दिल्ली में इलेक्ट्रिक गाड़ियां खरीदने पर रजिस्ट्रेशन में भी छूट
  • रोड टैक्स माफ करने के बाद केजरीवाल सरकार का फैसला
  • वायु प्रदूषण को कम करने के लिए इलेक्ट्रिक वीइकल पॉलिसी

नई दिल्ली
राजधानी दिल्ली में अब इलेक्ट्रिक गाड़ियां (Electric Vehicles in Delhi) खरीदने पर रजिस्ट्रेशन शुल्क में भी छूट मिलेगी। हाल ही में अरविंद केजरीवाल (Arvind Kejariwal) की सरकार ने इलेक्ट्रिक वाहन पर रोड टैक्स भी माफ कर दिया था। सीएम अरविंद केजरीवाल के नेतृत्व में दिल्ली सरकार ने इलेक्ट्रिक वाहनों को बढ़ावा देने के लिए इलेक्ट्रिक वीकल पॉलिसी को लागू किया है, जिससे दिल्ली के वायु प्रदूषण को कम किया जा सके।

इलेक्ट्रिक वाहन पॉलिसी के तहत रोड टैक्स माफी के बाद अब रजिस्ट्रेशन टैक्स भी माफ होगा। इसके लिए लोगों के सुझाव मंगाए गए थे। लोगों को सुझाव देने के लिए तीन दिन का समय दिया गया था। इसके बाद लोगों से मिली प्रतिक्रिया की समीक्षा के बाद इसे माफ करने का आदेश जारी किया गया।

दिल्ली को इलेक्ट्रिक वाहनों की राजधानी बनाने का लक्ष्य
सीएम अरविंद केजरीवाल दिल्ली में इलेक्ट्रिक वाहनों को बढ़ावा देने को लेकर कई बार प्रतिबद्धता जता चुके हैं। दिल्ली सरकार की योजना है कि 2024 तक नए निकलने वाले वाहनों में 25 पर्सेंट वाहन इलेक्ट्रिक होने चाहिए। इसके अलावा सार्वजनिक बसों के बेड़े को दोगुना किया जाएगा। नई खरीदी जाने वाली बसों में से 50 फीसदी इलेक्ट्रिक होंगी। केजरीवाल सरकार का दिल्ली को विश्वभर में इलेक्ट्रिक वाहनों की राजधानी बनाने का लक्ष्य है। इससे दिल्ली के वायु प्रदूषण को कम करनेमें भी मदद मिलेगी।



Source link

LAC विवाद देख रहे ले. जनरल हरिंदर सिंह को IMA भेजा, कोर कमांडर की पांच बैठकों में किया था देश का नेतृत्व


चीन से तनाव के बीच लेह में तैनात रहे भारतीय सेना के सर्वोच्च कमांडर लेफ्टिनेंट जनरल हरिंदर सिंह को अब देहरादून स्थित इंडियन मिलेट्री एकेडमी में कमांडेंट बनाकर भेज दिया गया है। हरिंदर सिंह का स्थान अब लेफ्टिनेंट जनरल पीजीके मेनन लेंगे।
नई दिल्ली, आइएएनएस। चीन से एलएसी पर तनाव के दौरान लेह में तैनात रहे भारतीय सेना के कमांडर लेफ्टिनेंट जनरल हरिंदर सिंह को अब इस तैनाती से देहरादून स्थित इंडियन मिलेट्री एकेडमी (आइएमए) में कमांडेंट बनाकर भेज दिया है। सूत्रों के अनुसार मौजूदा समय में लेह में तैनात 14 कोर कमांडर लेफ्टिनेंट जनरल हरिंदर सिंह का स्थान अब लेफ्टिनेंट जनरल पीजीके मेनन (PGK Menon) लेंगे। मेनन नया कार्यभार अक्टूबर मध्य में संभाल लेंगे।  

मेनन (PGK Menon) मौजूदा समय में सेना मुख्यालय में शिकायत सलाहकार बोर्ड (Complaints Advisory Board, CAB) के अतिरिक्त महानिदेशक पद पर हैं। वह सेना में शिकायत प्रणाली के प्रभारी हैं और सीधे तौर पर सेना प्रमुख जनरल मनोज मुकुंद नरवणे (Army Chief General Manoj Mukund Naravane) को रिपोर्ट करते हैं। मेनन हाल ही में हुई भारतीय और चीनी सेना की कोर कमांडर स्तर की बातचीत का भी हिस्सा थे।

दूसरी ओर, लेह में तैनात 14 कोर कमांडर लेफ्टिनेंट जनरल हरिंदर सिंह एक अक्टूबर से बतौर कमांडेंट देहरादून स्थित इंडियन मिलेट्री एकेडमी (आइएमए) से कामकाज संभाल रहे हैं। लेफ्टिनेंट जनरल सिंह ही पहले दिन से ही वास्तविक नियंत्रण रेखा (एलएसी) पर सेना की हरेक गतिविधि पर नजर रखते रहे हैं। सिंह ही अकेले दम पर भारत और चीन की कोर कमांडर स्तर की लगातार पांच बैठकों का नेतृत्व कर चुके हैं।

21 सितंबर को भारत और चीन के कोर कमांडरों की छठी बैठक में ही मेनन ने बातचीत में शिरकत शुरू की। इस बातचीत का मकसद पिछले पांच महीनों से सीमा पर दोनों देशों के बीच जारी तनाव को कम करना था। इस दौरान चीन ने भारत को पेंगोंग झील के दक्षिणी तटों से लगी सामरिक चोटियों को खाली करने को कहा है। चीन ने भारत पर दबाव डालने की नाकाम कोशिश की है। पिछले चार महीनों में दोनों देशों के बीच युद्ध जैसे हालात बन गए हैं।

इंडियन टी20 लीग

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस


पीएम नरेंद्र मोदी के संसदीय कार्यालय के बाहर प्रदर्शन करने जा रहे कांग्रेसियों को रोका

corona serious patients कोरोना के

वाराणसी, पीएम के संसदीय कार्यालय तक बुधवार को कांग्रेस कार्यकर्ताओं और पदाधिकारियों के प्रदर्शन को देखते हुए मौके पर भारी सुरक्षा बलों की तैनाती दोपहर से ही कर दी गई है। पुलिस प्रशासन की ओर से कड़ी सुरक्षा व्‍यवस्‍था को देखते हुए प्रदर्शन करने की तैयारी कर रहे कार्यकर्ता भी तय समय से पूर्व अपनी रणनीति बनाने में लगे रहे। वहीं दोपहर दो बजे के बाद पीएम नरेंद्र मोदी के संसदीय कार्यालय पर जाते समय कांग्रेस जनों को पुलिस ने रोका तो कांग्रेसियों ने नारेबारी करने के साथ ही सड़क पर धरना प्रदर्शन भी शुरु कर दिया।


1.बाबरी मस्जिद विध्वंस के गवाह पत्रकारों ने क्या-क्या देखा था?

2.The woman and her newborn baby were taken in a basket and carried 6 kilometers, VIDEO – महिला और उसके नवजात बच्चे को टोकरी में बिठाकर तय किया 6 किलोमीटर का सफर, देखें VIDEO



प्रदेश में कानून व्‍यवस्‍था सहित कई मामलों को लेकर कांग्रेस बुधवार दोपहर दो बजे गुरुबाग स्थित प्रधानमंत्री के संसदीय कार्यालय के बाहर प्रदर्शन करने की तैयारी कर रही थी। इस बाबत जानकारी होने के बाद मौके पर भारी पुलिस बल की तैनाती सुरक्षा कारणों से की गई है। इस बाबत फोर्स पीएम संसदीय कार्यालय पर तैनात होने के बाद कांग्रेसजन दोपहर दो बजे के बाद धरना प्रदर्शन करने की नई रणनीति भी बनाते नजर आए।


[box type=”shadow” align=”alignleft” class=”” width=”590″]Coronavirus Pandemic: doctor says, Remdesivir and Tocilizumab very effective for corona serious patients – कोरोना के गंभीर मरीजों पर Remdesivir और Tocilizumab कारगर लेकिन कमी से जूझ रहे छोटे अस्‍पताल..[/box]


 

Coronavirus Pandemic: doctor says, Remdesivir and Tocilizumab very effective for corona serious patients – कोरोना के गंभीर मरीजों पर Remdesivir और Tocilizumab कारगर लेकिन कमी से जूझ रहे छोटे अस्‍पताल..

Coronavirus Pandemic: doctor says, Remdesivir and Tocilizumab very effective for corona serious patients – कोरोना के गंभीर मरीजों पर Remdesivir और Tocilizumab कारगर लेकिन कमी से जूझ रहे छोटे अस्‍पताल..

 

Kangana’s counsel says BMC threw all rules to the wind; acted with malice; Bombay HC seeks answers too | Mumbai News – COVERAGE TIMES


मुंबई: बंबई उच्च न्यायालय शुक्रवार को नगर निगम पर कई सवालों की बरसात हुई कि यह जानने के लिए कि इसने अभिनेता की जमीन को कैसे और क्यों ध्वस्त किया कंगना रनौतबांद्रा में बंगला है अगर कोई कार्य नहीं चल रहा था जैसा कि उसने किया था। और क्या एक ही आदमी या सिर्फ एक काम करने वाले व्यक्ति आवश्यक पानी का काम कर रहे थे?
कंगना के वकील बीरेंद्र सराफ बीएमसी की कार्रवाई “द्वेष से प्रेरित” प्रस्तुत करने से शुरू हुई।
सराफ ने कहा, “याचिका निगम की अवैध और उच्चस्तरीय कार्रवाई को चुनौती देती है। क़ानून और क़ानून में ज्ञात हर प्रक्रिया को हवा में फेंक दिया गया। यहां तक ​​कि न्यायालयों के दिशानिर्देशों का भी उल्लंघन किया गया है। सत्ता में लोगों के साथ उनका वैचारिक मतभेद था, जिसके कारण बाहरी उद्देश्यों के लिए यह दुर्भावनापूर्ण कार्रवाई हुई। ‘
मुख्य सवाल जो अदालत में चल सकता है, वह होना चाहिए बृहन्मुंबई नगर निगम (BMC) ने वास्तव में अपने अधिनियम के अधिक कड़े खंड 354A का उपयोग किया है जो किसी भी चल रहे गैरकानूनी काम को ध्वस्त करने से सिर्फ 24 घंटे पहले देता है, यदि नोटिस के बाद अस्पष्टीकृत और रोका नहीं गया है, या वह काम पहले से ही पूरा हो गया था जैसा उसने कहा था, कानूनन, और BMC यदि सभी तब धारा 351 पर भरोसा कर सकते हैं जो सात दिनों के लिए कथित उल्लंघनकर्ता को जवाब देने और सुधारने में सक्षम बनाता है।
जस्टिस शाहरुख जिमी कथावाला की पीठ और रियाज इकबाल छागला उसकी याचिका को पढ़ने के लिए अच्छी तरह से तैयार किया गया था, उत्तरों और काउंटर उत्तरों के साथ-साथ। अन्य कथित अवैध संरचनाओं की एक सूची की ओर इशारा करते हुए, पीठ ने मंगलवार से अपने सवाल को दोहराया, विशेष नागरिक वकील एस्पी चिनॉय, अनिल सखारे और जोएल कार्लोस के लिए, “हम जानना चाहते हैं कि क्या उन मामलों में एक ही तेजी से विध्वंस हुआ है? ‘ ‘
बीएमसी ने इस बीच एक सुर-रविन्द्र के रूप में कहा कि अभिनेता ने शुरू में “गैरकानूनी बदलावों” से इनकार नहीं किया था। विध्वंस नोटिस में उल्लेख किया गया था और कहा कि हर्षोल्लास में उसका विशिष्ट खंडन दोनों “बेलेटेड और गलत” था। इसने “पांच कामगार ” की उपस्थिति दिखाने के लिए तस्वीरें भी पेश कीं और सामग्री जो दिखाती है कि” काम चल रहा था ” जब नागरिक अधिकारी निरीक्षण करने गए।
सराफ ने वकील कंगना के लिए रिजवान सिद्दीकी के साथ कहा, ” बीएमसी ने हर स्तर पर अपने बयान को बेहतर बनाने की कोशिश की है। सराफ ने कहा कि बीएमसी द्वारा कथित तौर पर 5 सितंबर को इस तरह की कोई पहचान नहीं थी और पहली पता लगाने की रिपोर्ट 7 सितंबर की है। उन्होंने यह भी कहा कि रिपोर्ट में विवरण स्केच थे, “कोई स्केच नहीं था, कोई तस्वीर नहीं थी, हालांकि पता लगाने के रजिस्टर में कोई प्रविष्टि नहीं है ।
न्यायमूर्ति कथावाला ने कहा, “यहां तक ​​कि एक दिन भी उन्होंने ” यह कहते हुए फोटो नहीं दिखाए कि यह उनकी” समझदारी “थी, जिसके लिए धारा 354 ए का सहारा नहीं लेना चाहिए था।
सराफ ने कहा, “जब क़ानून कठोर शक्ति देता है तो इसके लिए बहुत ज़िम्मेदारी की आवश्यकता होती है।” उन्होंने यह भी कहा कि उन्हें उचित नोटिस मिला है, उन्होंने किसी विशेषज्ञ से सलाह ली होगी।
चिनॉय ने कहा कि जो ध्वस्त किया गया था वह मंजूर योजना में नहीं था। उन्होंने यह भी कहा कि ध्वस्त किया गया हिस्सा “आसमान में नहीं खुला है” और “कोई बारिश नहीं होगी”। न्यायमूर्ति कथावाला ने कहा कि उन्होंने एक टूटी खिड़की को देखा।
9 सितंबर को सुबह, बीएमसी के दस्ते ने मनाली से उसके निर्धारित आगमन से कुछ घंटे पहले “गैरकानूनी गैरकानूनी परिवर्धन और स्वीकृत योजनाओं के विपरीत चल रहे बदलावों” को खत्म करने के लिए झपट्टा मारा।
सिद्दीकी ने कहा कि बीएमसी अधिकारी ने उस दिन उनकी याचिका को स्वीकार करने से इनकार कर दिया था।
उनका तर्क यह है कि तोड़फोड़ बीएमसी द्वारा एक “माला फाइड ” काउंटर ब्लास्ट था, जिसका नेतृत्व शिवसेना कर रही है, जिसके अध्यक्ष मुख्यमंत्री भी हैं, क्योंकि वह अपनी मुखर टिप्पणियों पर सरकार के साथ ‘लकड़हारा प्रमुख’ थे।
HC इस मामले पर 28 सितंबर को सुनवाई करेगा।